विवादित बयांन के चलते भाजपाइयों ने फूंका पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ का पुतला 

BJP workers burnt effigy of former Chief Minister Kamal Nath due to controversial statement

विवादित बयांन के चलते भाजपाइयों ने फूंका पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ का पुतला 
रिपोर्ट। वीरेंद्र अग्रवाल

विवादित बयांन के चलते भाजपाइयों ने फूंका पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ का पुतला 

जुन्नारदेव।  वीरेंद्र अग्रवाल।  भाजपा नगर मंडल के कार्यकर्ताओं ने आज स्थानीय श्यामा प्रसाद मुखर्जी चौक में पूर्व मुख्यमंत्री एवं छिंदवाड़ा विधायक कमलनाथ का पुतला फूंका । पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने विगत दिनों भाजपा प्रदेश अध्यक्ष विष्णु दत्त शर्मा पर अमर्यादित एवं स्तरहीन टिप्पणी की थी , इससे आक्रोशित भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ताओं द्वारा आज जुन्नारदेव सहित पूरे प्रदेश में पूर्व मुख्यमंत्री एवं छिंदवाड़ा विधायक कमलनाथ का पुराना बस स्टैंड श्यामा  प्रसाद चौक में पुतला जलाया । 

 

विरोध प्रदर्शन के दौरान भाजपा कार्यकर्ताओं द्वारा कमलनाथ मुर्दाबाद , कमलनाथ जुबान पर लगाम लगाओ , कमलनाथ हाय-हाय जैसे नारे लगाते हुए कमलनाथ का पुतला दहन किया गया। इस अवसर पर भाजपा अनुसूचित जनजाति के प्रदेश उपाध्यक्ष व पूर्व विधायक नत्थन शाह कवरेती ने पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ को संदेश देते हुए कहा कि कमलनाथ राजनीति एवं उम्र के इस पड़ाव पर हैं , कि अगर कमलनाथ  उचित राजनीतिक भाषा का  प्रयोग नही कर सकते और अगर कमलनाथ अपनी भाषा शैली पर नियंत्रण नहीं रख सकते एवं राजनीति में किस तरह की भाषा का प्रयोग करना है , अगर उन्हें ज्ञान नही है तो उन्हें किसी अनुभवी वरिष्ठ से सीख लेना चाहिए , कि राजनीति में किस तरीके से सभ्य भाषा का प्रयोग किया जाता है । भाजपा नगर मंडल अध्यक्ष नवजीत मोनू जैन ने कहा कि आज संघर्ष करते हुए भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष के दायित्व पर पहुँचे विष्णु दत्त शर्मा  के विरोध में कमलनाथ द्वारा जिस तरह की स्तरहीन टिप्पणी की गई है , वो उनकी संकीर्ण मानसिकता का परिचय देती है, वरिष्ठ पत्रकार संजय जैन ने  पूर्व मुख्यमंत्री एवं छिंदवाड़ा विधायक कमलनाथ से उम्र के इस पड़ाव में सार्वजनिक मंचो में वरिष्ठ नेताओं के प्रति शालीनता बरतने की अपील की है । पूर्व में भी कमलनाथ द्वारा एक महिला नेत्री के प्रति अभद्र टिप्पणी की गई थी , जिसकी हम घोर निंदा करते है । पुतला दहन कार्यक्रम में भाजपा के वरिष्ठ नेता ओमी हुड़िया , विष्णु प्रसाद शर्मा , गौरव सिंग , रमेश सलोडे , राजकुमार यादव , मेशलाल चंचल , भरत जोशी , दीपेश जैन , शरद कुरोलिया , प्रवीण चौहान , रानू रसेला , नितेश राजपूत , रूपेश विश्वकर्मा ,राहुल अमूले , महेंद्र सूर्यवंशी , गब्बर रघुवंशी , अंकुर रघुवंशी , हरि लाल , अमन सोनी , जित्तू सूर्यवंशी राजेन्द्र रजक , विवेक सोनी , पवन टांडेकर , शानू पांडे , किशोर कैथवास व अन्य कार्यकर्ता उपस्तिथ थे।