सरकारी कर्मचारियों के मामले में सख्त हुई शिवराज सरकार, जल्दी हो सकती है छंटनी

Shivraj government hardened in case of government employees, layoffs may happen soon

सरकारी कर्मचारियों के मामले में सख्त हुई शिवराज सरकार, जल्दी हो सकती है छंटनी
रिपोर्ट। ब्यूरो CTN भारत,भोपाल

सरकारी कर्मचारियों के मामले में सख्त हुई शिवराज सरकार, जल्दी हो सकती है छंटनी

  • अधिकारी-कर्मचारियों को लग सकता है बड़ा झटका

भोपाल। मध्यप्रदेश में चौथी बार मुख्यमंत्री बन कर आए शिवराज सिंह चौहान ने कोरोना काल में सरकारी कर्मचारियों की छंटनी करने का फैसला लगभग कर लिया है। सरकार ने इस संबंध में जांच पड़ताल भी शुरू कर दी है। इस संबंध में शिवराज सरकार अधिकारी कर्मचारी के परफॉर्मेंस के लिए बने फार्मूले को लेकर एक बार फिर सख्त हुई है। सरकार ने सामान्य प्रशासन विभाग के माध्यम से विभिन्न विभागों, जिलों के कलेक्टरों, संभागीय आयुक्तों, मंडलों और निगमों को विभिन्न कर्मचारियों की सीआर रिपोर्ट के आधार पर 4 दिसंबर तक रिपोर्ट देने के लिए कहा है। 

दरअसल राज्य सरकार ने एक बार फिर से परफॉर्मेंस के लिए बनाए गए 20:50 के फार्मूले को लेकर सख्ती दिखाई है। इसका मतलब है कि अब कर्मचारी की मेडिकल जांच की जाएगी और जिस कर्मचारी की मेडिकल रिपोर्ट अनफिट आती है या इलाज के बाद भी वो स्वस्थ महसूस नहीं करते। उन्हें 20 साल की नौकरी के बाद खुद रिटायरमेंट लेने का मौका दिया जाएगा।

गौरतलब है कि सीआर यानी वो रिपोर्ट जिसके माध्यम से सरकारी कर्मचारी के परफॉर्मेंस, उसके व्यवहार, आचरण, काम करने के तरीके आदि का आंकलन किया जाता है और इसी के आधार पर उसे नंबर दिए जाते हैं। जिसके आधार पर उसका प्रमोशन और डिमोशन भी होता है।

ऐसे कर्मचारी जो बार-बार बीमार पड़ रहे हैं, उनका भी चेकअप राज्य शासन करा कर उन्हें भी जल्दी वॉलेंटरी रिटायरमेंट देने की तैयारी कर रही  है। इस विषय में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान जल्द ही एक प्रेस कॉन्फ्रेंस भी करने वाले हैं।

सरकार भले ही छुपा रही हो लेकिन लंबे समय से शासकीय खजाना लॉस में जा रहा है। जिसकी भरपाई करने के लिए रह-रहकर शिवराज सरकार प्रयत्न करती रहती है। यह कदम भी उससे जोड़कर देखा जा रहा है।