कलेक्टर श्री सुमन ने जूम एप के माध्यम से फील्ड अधिकारियों से चर्चा कर प्राथमिकताओं पर तत्परता से कार्य करने के दिये निर्देश

Collector Mr. Suman discussed with field officers through the zoom app and gave instructions to work on priorities

कलेक्टर श्री सुमन ने जूम एप के माध्यम से फील्ड अधिकारियों से चर्चा कर प्राथमिकताओं पर तत्परता से कार्य करने के दिये निर्देश
रिपोर्ट - दुर्गेश नरोटे, छिंदवाड़ा
कलेक्टर श्री सुमन ने जूम एप के माध्यम से फील्ड अधिकारियों से चर्चा कर प्राथमिकताओं पर तत्परता से कार्य करने के दिये निर्देश

कलेक्टर श्री सुमन ने जूम एप के माध्यम से फील्ड अधिकारियों से चर्चा कर प्राथमिकताओं पर तत्परता से कार्य करने के दिये निर्देश.....
====================================

कलेक्टर श्री एस.के.सुमन ने आज जूम एप से वीडियो कांफ्रेंस कर जिले के फील्ड अधिकारियों से कोरोना वायरस कोविड-19 के संक्रमण से बचाव व रोकथाम, गेहूं उपार्जन, पेयजल समस्या तथा सब्जी उत्पादकों की समस्याओं आदि के संबंध में चर्चा कर आवश्यक निर्देश दिये । वीडियो कांफ्रेंस के दौरान मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत  गजेंद्र सिंह नागेश, अतिरिक्त कलेक्टर  राजेश बाथम, फूड आफिसर  जे.पी.लोधी व मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ.प्रदीप मोजेस सहित अन्य संबंधित अधिकारी उपस्थित थे ।  
      वीडियो कांफ्रेंस के दौरान कलेक्टर श्री सुमन ने कहा कि कोविड-19 के संक्रमण से बचाव व रोकथाम के सभी आवश्यक उपाय करें और यह सुनिश्चित करें कि हर व्यक्ति मास्क लगाये । मनरेगा के मजदूरों के लिये प्रत्येक ग्राम पंचायत में अच्छी कवालिटी के मास्क्, सैनेटाईजर व हैंड वॉश की व्यवस्था करें । उन्होंने सभी एस.डी.एम. व सीईओ जनपद पंचायत से कहा कि कोविड-19 के संक्रमण से बचाव के लिये आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति समुचित रूप से हो यह भी चैक करते रहे । उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस संक्रमितों का सर्वे प्राथमिकता से  करें, जिले के सभी गांवों के प्रत्येक घर में जाकर सस्पेक्टेड का सैम्पल लें । साथ ही यह प्राथमिकता तय करें कि शहरी और घनी आबादी वाले क्षेत्र के साथ प्रवासी मजदूरों का सैम्पल पहले और अच्छे से होना चाहिये । उन्होंने सभी अधिकारियों से कहा कि स्वयं को सुरक्षित रखते हुये काम करें, शिकायत नहीं मिलना चाहिये । लॉकडाउन का मकसद कोरोना को रोकना है, किसी को परेशान करना नहीं । काम खुलकर करें, बिना डरे करें और जो भी दिक्कत होती है, वह बताये । यदि कोई अधिकारी जानबूझकर गलती या लापरवाही करता है तो उन पर निश्चित ही अनुशासनात्मक कार्यवाही होगी । उन्होंने कहा कि परिवार व  काम के बीच संतुलन बनाये  रखें । गरीबों को लेकर संवेदनशीलता रखें । उन्होंने गेहूं उपार्जन व्यवस्थित रूप से करने के निर्देश देते हुये कहा कि उपार्जित गेहूं के लिये बारदाना, परिवहन व भुगतान समुचित रूप से हो । इसके संबंध में आगे भी समीक्षा की जायेगी । प्रत्येक एस.डी.एम. रोज यह चिंता करें कि गेहूं परिवहन व्यवस्थित रूप से हो । लोडिंग, अनलोडिंग के लिये मजदूरों की व्यवस्था करें और निर्धारित प्रतिशत में परिवहन करें । यदि कहीं बारदाना की समस्या है तो डीएमओ मारफेड से संपर्क कर बारदाना प्राप्त करें । मंडियों का भी निरीक्षण करें और देखें कि सोशल डिस्टेंसिंग के जो मापदंड हैं, उनका पालन हो रहा है या नहीं । 
      कलेक्टर श्री सुमन ने जिले में पेयजल समस्या की समीक्षा करते हुये एस.डी.एम. से कहा कि क्षेत्र का दौरा कर यथास्थिति की जानकारी प्राप्त कर यह देखें कि अनावश्यक पेयजल परिवहन नहीं हो । उन्होंने बाढ़ नियंत्रण के लिये आवश्यक उपाय जैसे मेपिंग, राशन, पुल-पुलियों में साईनेज, बैरिगेट्स आदि की व्यवस्था अभी से करने के निर्देश दिये।
साथ ही सब्जी उत्पादक कृषकों की समस्या के समाधान के लिये संबंधित क्षेत्र के एसडीएम को निर्देशित करते हुये यह विशेष जिम्मेदारी दी कि वे यह सुनिश्चित करें कि बाहर से आये व्यापारी बेहतर दाम में किसानों के सब्जी का क्रय कर सकें । स्थानीय स्तर पर भी सब्जी व फल जैसे तरबूज आदि के विक्रय की व्यवस्था करें । इसके लिये ग्राम पंचायत सचिव, आशा कार्यकर्ता, कोटवार के माध्यम से संपर्क कर सब्जी व तरबूज की होम डिलेवरी करायें । उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस को रोकना एक पहलू है । इसके साथ यदि गरीबों व कृषकों की मदद हो जाये तो यह दूसरा महत्वपूर्ण पहलू है । सभी एसडीएम यह देखें कि इस दिशा में बेहतर क्या हो सकता है ।